रोसड़ाः एक ने मां दुर्गा की प्रतिमा पर चप्पल फेंका तो दूसरे ने मस्जिद पर लहरा दिया भगवा ध्वज व जला दी पुस्तकें

image

You must need to login..!

Description

मां दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान दो पक्षों के बीच स्थिति तनावपूर्ण हो गई। यह तनाव उस समय और बढ़ गया जब प्रतिमा विसर्जन के दौरान गुदरी चौक स्थित मस्जिद के निकट कतिपय शरारती तत्वों ने प्रतिमा पर जूता-चप्प्ल फेंक दिया।सूचना फैलते ही गुदरी चौक पर हजारों लोगों की भीड़ जुट गई। सभी लोग प्रतिमा पर जूता-चप्पल फेंकने वालों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। सूचना पर एसडीओ और डीएसपी समेत बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ गुदरी चौक पहुंचकर लोगों को शांत कराने में जुटे हुए हैं।बाद में दलसिंगसराय एसडीपीओ संतोष कुमार समेत अन्य थाने की पुलिस पहुॅंची। आक्रोशित लोगों के द्वारा किये गये पथराव में एसडीपीओ का सर फट गया। जिन्हें अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस बीच एक पक्ष के लोगों ने रोसड़ा-खगड़िया रेलखंड में रोसड़ा स्टेशन के समीप एक सवारी गाड़ी का परिचालन ठप कर दिया वहीं शहर में मूर्ति विसर्जन करने वाले लोगों में शामिल उपद्रवियों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी।शहर के गुदड़ी चौक पर मंगलवार की सुबह से ही बवाल की स्थिति बनी हुई है। बवाल को शांत कराने में जिले की पुलिस बल कैम्प कर रही है। बताया जाता है कि किसी शरारती तत्व के द्वारा मां दुर्गा की मूर्ति पर चप्पल फेंक दिया गया। इससे एक समुदाय के लोगों की आस्था को गहरा आधात पहुॅंचा। बात कानोकान शहर में फैल गयी। मंगलवार की सुबह इस समुदाय के लोगों द्वारा दूसरे समुदाय के द्वारा चप्पल फेंकने की बातें हवा में तैरने लगी। फलस्वरूप शहर के युवकों की एक टोली गुदरी चौक स्थित मस्जिद के सामने चप्पल फेंकने वाले आरोपी को बलि देने की बात पर अड़ गये और नारे बाजी करने लगे।
नारेबाजी सुनकर शहर के दुकानें बंद हो गयी और भीड़ हजारों में तब्दील हो गयी। प्रशासन के लोग आये तो युवकों ने उनकी एक न सुनी और मस्जिद पर चढ़कर तिरंगा एवं भगवा झंडा लहरा दिया।
प्रशासन के द्वारा इसकी खबर जिले एंव राज्य मुख्यालय को दी गयीं । बाद में जिले की पुलिस को रोसड़ा भेज दिया गया। रोसड़ा एसडीओ, एसडीपीओ, थानाध्यक्ष समेत शिवाजीनगर, विभूतिपुर, हसनपुर, बिथान समेत अन्य थानों की पुलिस बल घटना स्थल पर कैम्प कर रही है। समाचार प्रेषण तक तनाव बरकरार था। सामाजिक कार्यकर्ता, जनप्रतिनिध एवं प्रशासन माहौल को शांत कराने के प्रयास में लगे हुये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *