समस्तीपुरः शिवाजीनगर बवाल में थानाध्यक्ष समेत दो पुलिसकर्मी निलंबित, डीएसपी से शो-काउॅज

शिवाजीनगर, नरसिम्हा चौक पर मंगलवार को ट्रक की चपेट में आने से एक युवक सहित दो बच्ची की मौत के बाद हुए बबाल मामले में पुलिस अधीक्षक हरप्रीत कौर ने शिवाजीनगर ओपी अध्यक्ष पवन कुमार यादव एवं चौकीदार राम कुमार को निलंबित कर दिया है। वहीं इस पूरे मामले की गहन जांच कर दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई करने का आदेश जारी किया है। बबाल मामले में तीन अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। जिसमें एकमुखिया, एक पूर्व मुखिया समेत 73 लोगों को नामजद किया गया है जबकि पांच सौ अज्ञात के विरूद्ध भी प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। इस मामले में अब तक 18 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस की ओर से सुरक्षा के लिए काफी संख्या में पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है।
ट्रक की ठोकर से एक युवक एवं दो बच्ची की कुचलकर हुई मौत एवं उसके बाद आक्रोशित लोगों के द्वारा पुलिस के वाहनों को जलाए जाने और ओपी कार्यालय तथा पीएचसी में तोड़फोड़ किए जाने की घटना में एसपी ने सख्त कार्रवाई की है। थानाध्यक्ष पवन कुमार यादव एवं राम कुमार सिहं को निलंबित कर दिया है। वहीं शांति व्यवस्था बनाए रखने को लेकर इंस्पेक्टर चतुर्वेदी सुधीर कुमार के नेतृत्व में काफी संख्या में पुलिस के जवानों को वहां पर तैनात कर दिया गया है। तीन प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। अंचलाधिकारी राम दत्त पासवान के बयान पर दर्ज प्राथमिकी में राजौड़ रामभद्रपुर के मुखिया अशोक कुमार सिहं, पूर्व मुखिया वीरेन्द्र प्रसाद बिरजु सहित 73 लोगों को नामजद और 500 अज्ञात को आरोपित किया गया है। दोनों मुखिया पर सरकारी कार्य में बाधा डालने एवं उपद्रवियों को उकसा कर तोड़फोड़ एवं हंगामा कराने की बात कही गई है। इसमें से 18 लोगों को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया है। गिट्टी लदे ट्रक में शराब की बोतलें भी पायी गई है। इसको लेकर अज्ञात ट्रक चालक के विरुद्ध अवर निरीक्षक श्रीराम दूबे के फर्द बयान पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। जिसमें ट्रक संख्या बीआर 01 जीजी 9793 के चालक पर शराब ढोने की बात कही गई है। तीसरी प्राथमिकी चौकीदार दिनेश मंडल के बयान पर दर्ज कराई गई है, जिसमें ट्रक से कुचलकर तीन के मौत होने की बात कही गई है।
शिवाजीनगर के ओपी कार्यालय के आस-पास प्रशासनिक सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद कर दी गई है। कल की घटना के बाद बुधवार को बाजार की अधिकांश दुकानें बंद रही। पुलिस की छापेमारी के भय से आसपास के इलाके के लोग भी घर छोड़कर फरार बताए जाते हैं। दहशत के कारण अधिकांश पुरुष गांव छोड़कर कहीं अन्यत्र चले गए हैं। मध्य विद्यालय शिवाजीनगर एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में जिला पुलिस के द्वारा कैंप किए जाने से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया है। सैप के जवानों के द्वारा डुमरा मोहन चौक, बड़ियाही घाट पुल एवं अन्य चौक-चौराहों पर बैरिकेटिग कर दिए जाने से वाहन चालकों में भी हड़कंप मच गया है। प्रशासन के द्वारा रोसड़ा-शिवाजीनगर भाया बहेरी सड़क पर भारी वाहनों के यातायात पर रोक लगा दी गई है। जिसके कारण ट्रक एवं बस का परिचालन बंद हो गया है। इससे बस यात्रियों को यातायात में काफी परेशानी हो रही है। रोसरा अंचल इंस्पेक्टर संजय कुमार सिंह, बीआईयू प्रभारी संजय कुमार, जिला पुलिस कैंप, जोनल दंगा निरोधी वाहन, दरभंगा के सब इंस्पेक्टर राजेंद्र सरगाही, दंगा निरोधी मेजर रामाशंकर सिंह सहित अन्य वरीय पदाधिकारियों ने पूरे शिवाजीनगर के इलाकों की कमान को संभाले हुए हैं। स्थिति पूरी तरह नियंत्रित बताई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *