समस्तीपुरः असमंजस में मतदाता किसे दें वोट ? उम्मीदवार के चुनावी दौड़े से अनेकों गांव गायब…!

समस्तीपुर संसदीय क्षेत्र के मतदाता असमंजस में है। किसे वोट करें? क्योंकि जिले की जागरूक जनता को दोंनों ही उम्मीदवार पंसद नहीं आ रहे है। सोशल साईट पर रामचन्द्र पासवान एवं डाॅ अशोक कुमार दोंनों का ही विरोध हो रहा है। इस विरोध का कारण है की दोनों ही उम्मीदवार को अपने क्षेत्र का अनुभव नहीं है। वे अपने कार्यकर्ता के भरोसे क्षेत्र भ्रमण कर पा रहे है। अनुभव विहीन ये दोनों उम्मीदवार को ना तो क्षेत्र की समस्या का पता है और ना ही क्षेत्र के भौगोलिक स्थिति का। आरक्षण के नाम पर इस आरक्षित सीट से ये सिर्फ सांसद बनना चाहते है।डाॅ अशोक कुमार सवर्ण बहुल मतदाताओं के गांव में रूकना तक नहीं चाह रहे है। वे राजद के माय समीकरण पर आधारित भ्रमण कार्यक्रम बनायें हुये है। वे रोसड़ा के विधायक है लेकिन रोसड़ा विधानसभा के सैकड़ों सवर्ण बहुल गांव उनके भ्रमण लिस्ट में नहीं है। इसी प्रकार लोजपा सांसद राम चन्द्र पासवान का भ्रमण कार्यक्रम है। वे वैसे गांव का दौरा नहीं कर पा रहे है जिस गांव में अल्पसंख्यक की बहुलता है। आखिर मतदाता किसे वोट करें? सवर्ण रहते हुये भी किसी को कांग्रेस की घोषणा अच्छी लग रहीं है, लेकिन वे अपने उम्मीदवार के क्षेत्र भ्रमण कार्यक्रम की लिस्ट में अपने गांव का नाम नहीं देखकर आश्चर्यचकित है। इसी प्रकार किसी अल्पसंख्यक को लोजपा का घोषणा पत्र अच्छा लग रहा है। लेकिन वे चुनावी दौरे में भी एक झलक अपने उम्मीदवार को नहीं देख पाने से नाराज है। ऐसे में सवाल उठता है कि समस्तीपुर जिले में महागठबंधन एवं राजग के बीच टक्का के दोंनों उम्मीदवार के प्रति लोगों की नाराजगी है। लेकिन वे मनमसोसकर इस बार वोट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *