शिवाजीनगरः पुण्यतिथि पर हुआ पूर्व मंत्री गजेन्द्र सिंह की प्रतिमा का अनावरण

image

You must need to login..!

Description

पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने पूर्व मंत्री स्वर्गीय गजेंद्र प्रसाद सिंह की चौथी पुण्यतिथि पर राधाकृष्ण गोविद गोस्वामी इंटर महाविद्यालय के प्रांगण में स्थापित उनकी प्रतिमा का अनावरण किया। फूल माला अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर आयोजित आम सभा को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री के व्यक्तिव एवं कृतित्व पर विस्तार पूर्वक चर्चा की। उन्होंने कहा गजेंद्र बाबू लोकप्रिय एवं जन-जन के नेता थे। शिवाजीनगर की गली-गली में विकास का श्रेय उन्हीं को जाता है। वे हमेशा लालू जी साथ सामाजिक न्याय की लड़ाई में खड़े रहे। उन्होंने कहा आगामी विधानसभा चुनाव हम अपने सहयोगियों के साथ मिलकर लड़ेंगे। नितीश कुमार चाचा जो पलटू राम की भूमिका निभा रहे हैं, उनकी एनडीए सरकार को उखाड़ फेंकने का संकल्प कार्यकर्ता लें। उन्होंने कहा कि शिवाजीनगर राजद का गढ़ है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के आला अधिकारियों का मनोबल इतना बढ़ गया है कि वह आम लोगों का काम बिना रिश्वत के नहीं करते। अब बिहार में अफसरशाही हावी हो गई है। पुण्य तिथि पर पूर्व मंत्री गजेंद्र प्रसाद सिंह की पत्नी उर्मिला सिन्हा, पुत्र चुन्नु स्वामी, गौतम स्वामी, बहू अल्का ज्योति आदि ने भी पुष्प अर्पित की। कार्यक्रम की अध्यक्षता राजद प्रखंड अध्यक्ष सुशील कुमार सिंह ने की। मंच संचालन बैद्यनाथ पोद्दार ने किया।

मौके पर विधायक डॉ. अशोक कुमार राम, पूर्व मंत्री अब्दुलबारी सिद्दिकी, नंद कुमार चौधरी, असर्फी लाल सिंह, युवा राजद नेता संतोष कुमार सिंह, पूर्व मुखिया विजय कुमार सिंह, दिलीप कुमार सिन्हा, नरेश कुमार, प्रो राम जपू यादव, राज कुमार सिंह, बैद्यनाथ सिंह, राजेश कुमार यादव, विद्यासागर सिंह समेत अन्य मौजूद थे।

गजेन्द्र प्रसाद सिंह की आवाज आज भी शिवाजीनगर एवं रोसड़ा के ईलकों में लोग अनुभव करते है। चर्चा जब होती है तो उनकी विधायकी की उनके विरोधी भी चर्चा करने से नहीं थकते है। उनके बाद उनकी पत्नी डाॅ उर्मिला सिन्हा ने क्षेत्र में विकास कार्यो को लेकर रोसड़ा एवं वारिसनगर के ईलाकों में सक्रिय रहीं है। ऐसे में संभावना है की वारिसनगर से वे अगला विधानसभा का चुनाव लड़े।

यह भी पढ़ें-http://समस्तीपुरःकर्पूरी ठाकुर की राह पर चलकर हमेशा के लिए लालू के ही हो गये गजेन्द्र प्रसाद सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *