डब्ल्यूएचओ की चेतावनी लॉकडाउन पर्याप्त नहीं, मरीज ढूँढें, जाँचें और इलाज करें!

image

You must need to login..!

Description

 

।।संपादक।। संजीव कुमार सिंह।।

भारत सहित दुनिया भर में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए उठाए जा रहे लॉकडाउन को विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने अपर्याप्त बताते हुये महामारी ख़त्म करने के लिए आक्रामक उपाए उठाने की सलाह दी है।डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अधानोम ने कहा कि ऐसे मामलों को ढूँढना, अलग-थलग करना, जाँच करना और इसका निशान पता करना ही सबसे बढ़िया और सबसे तेज तरीका है। न सिर्फ बेहद सामाजिक आर्थिक पाबंदियों से बचने के लिए, बल्कि इसे फैलने से रोकने के लिए भी।

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख अधानोम ने इसके लिए ट्विटर पर एक वीडियो मैसेज जारी किया है। इसमें वह दुनिया भर के देशों को संबोधित कर रहे हैं। अधानोम का यह संदेश उन देशों के लिए काफी महत्वपूर्ण है जो ख़ासकर लॉकडाउन पर बहुत ज्यादा निर्भर हैं और दूसरे उपायों पर उतना जोर नहीं दे रहे हैं।

बिना लॉकडाउन किए हुए दक्षिण कोरिया द्वारा इस वायरस पर काबू पाए जाने पर डब्ल्यूएचओ और इसके प्रमुख अधानोम उसकी जमकर तारीफ की हैं और दूसरे देशों को उससे सीख लेने को कहा हैं। दक्षिण कोरिया ने विकसित देशों की तरह स्वास्थ्य व्यवस्था मजबूत नहीं होने के बावजूद अपनी तैयारी के बल पर इस वायरस को काबू किया है। इसने स्वास्थ्य व्यवस्था को मजबूत किया और वह रणनीति के साथ इसके साथ लड़ रहा है।

उन देशों को संदेश देने की कोशिश की है कि वे लॉकडाउन से इतर दूसरे उपायों पर भी विचार करें। उन्होंने कहा कि हम सभी देशों से आग्रह करते हैं कि इस वक़्त का इस्तेमाल कोरोना वायरस के खिलाफ हमले करने में करें। उन्होंने कहा, लोगों को घर पर रहने और आबादी की आवाजाही बंद करने के लिए कहने से स्वास्थ्य प्रणालियों पर दबाव कम हो रहा है और समय भी ज्यादा मिल रहा है। लेकिन अपने दम पर ये उपाय (लॉकडाउन) महामारी को नहीं ख़त्म कर पाएँगे।

बता दें कि चीन से लेकर इटली, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी, अमेरिका, भारत सहित क़रीब 42 देशों ने लॉकडाउन का सहारा लिया है। कोरोना वैश्विक महामारी है और इसने पूरी दुनिया को चपेट में ले लिया है।

दुनिया भर में कोरोना का वायरस तेजी से फैल रहा है और अब तक 4 लाख 68 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। 21 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *