पूर्णियाः सबसे लम्बा तिरंगा फहराने पर प्रशासन ने लगा दी रोक, सड़क जाम हुआ तो अब 20 अगस्त को फहराया जाएगा तिरंगा

image

You must need to login..!

Description

आईना समस्तीपुर। डेली न्यूज सर्विस
आजादी के 70 वें सालगिरह पर विश्व का सबसे लंबा तिरंगा फहराने के लिए दी गई अनुमति को अंतिम समय में रद्द किए जाने से सोमवार को लोगों को गुस्सा फूट पड़ा। आक्रोशित लोगों ने पॉलिटेक्निक कॉलेज के आगे सड़क पर आग लगा जाम लगा दिया। कुछ ही देर में प्रशासन द्वारा झंडा फहराने की अनुमति रद्द करने की सूचना पूरे शहर में फैल गई। इसके बाद लोग जगह.जगह सड़कों पर उतर गए। प्रमुख चौराहों पर आगजनी कर जाम लग दिया। अब 20 अगस्त को फहराया जाएगा तिरंगा। एसपी निशांत तिवारी ने तिरंगा फहराने वाले सुनील कुमार सुमन व उनके साथियों की डीआईजी के साथ बैठक करवाई।इसके बाद जिला प्रशासन द्वारा 20 अगस्त को गुलाबबाग जीरोमाइल से सुबह आठ बजे सात किलोमीटर लंबा तिरंगा फहराने की अनुमति दी गई। इस तिरंगा में राष्ट्रीय ध्वज के बीच में बना चक्र नहीं होगा।
तिरंगा फहराने के पीछे का मामला
विश्व का सबसे लंबा तिरंगा फहराने कर पूर्णिया के नाम कीर्तिमान स्थापित करने को लेकर शहर के लोग उत्साहित थे। पूर्व में प्रशासन ने पॉलिटेक्निक कॉलेज में झंडा फहराने की अनुमति दी थी। मगर 14 अगस्त को प्रशासन ने यह कहकर अनुमति रद्द कर दी थी कि, राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए कुछ नियम हैं। उधर 15 अगस्त को पूर्व सूचना के मुताबिक लोग जुटने लगे थे। वहां जब पता चला किए प्रशासन ने झंडा फहराने संबंधी दी गई अनुमति को रद्द कर दिया है तो लोगों का आक्रोश भड़क गया।
हवाला देकर प्रशासन की ओर से दिए गए आदेश को निरस्त कर दिया गया।
अब 20 अगस्त को फहराया जाएगा तिरंगा
जिला प्रशासन ने पुनः 20 अगस्त को तिरंगा फहराने का आदेश दे दिया है। अब यह तिरंगा गुलाबबाग जीरो माइल टाटा मोटर्स से टॉल टैक्स होते हुए 7 किलोमीटर लम्बा फहराया जाएगा। जिला प्रशासन ने राय. मशविरा के बाद 16 अगस्त की शाम इसकी लिखित सूचना आवेदक सुनील सुमन को दी। यह तिरंगा मानव श्रृंखला बनाकर आम जन के सहयोग से अब 20 अगस्त को फहराया जाएगा।20 को शर्तों के साथ तिरंगा फहराने की अनुमति दी गयी है।

3 किलोमीटर का तिरंगा फहराया जा चुका है अब 7 किलोमीटर जम्बा फहराने की बारी
तमिलनाडु में तीन किलोमीटर लम्बा तिरंगा फहराने का रिकार्ड बन चुका है, अब 7 किलोमीटर लम्बे तिरंगा फहराने की बारी है। पूर्णिया को इसके लिए विष्व रिकार्ड में शामिल किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *