छतीसगढ़ में नक्सली हमला 26 जवान शहीद

You must need to login..!

Description


रायपुर। छत्तीसगढ़ में नक्सली संगठनों ने फिर केंद्रीय सुरक्षा बलों पर घातक हमला किया है। इस हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीआरपीएफ के 26 जवान शहीद हुए हैं। हमले में कई जवान घायल भी हुए हैं। इनमें से कुछ की हालत गंभीर बताई जाती है। ये जवान सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन के थे। छत्तीसगढ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों ने सोमवार को घात लगा कर पुलिस दल पर गोलीबारी की।

सीआरपीएफ की टीम सुकमा के चिंतागुफा में सड़क निर्माण कार्य की सुरक्षा में लगी थी। चिंतागुफा थाना क्षेत्र में सीआरपीएफ और जिला बल के संयुक्त दल को गश्त के लिए रवाना किया गया था। यह दल जब बुरकापाल क्षेत्र में था, तब नक्सलियों ने उन पर हमला कर दिया।

सुकमा जिले के एएसपी जितेंद्र शुक्ला ने कहा, घटना दोपहर 1.30 बजे उस समय घटी, जब सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन रोड ओपनिंग के लिए निकली थी। सड़क निर्माण की सुरक्षा में लगे ये जवान खाना खाने की तैयारी कर रहे थे। उसी दौरान घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने जवानों पर गोलीबारी शुरू कर दी। अचानक हुए इस हमले के बाद जवानों ने भी जवाबी गोलीबारी की। काफी समय तक दोनों तरफ से गोलीबारी होती रही।

राज्य के पुलिस महानिदेशक एएन उपाध्याय ने बताया कि सुबह जवानों को गश्त के लिए रवाना किया गया था। दल में लगभग 100 जवान थे। यह दल जब 12 बजे बुरकापाल के करीब था तब नक्सलियों ने पुलिस दल पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद सुरक्षा बल के जवानों ने भी कार्रवाई की। दोनों ओर से लगभग तीन घंटे तक गोलीबारी हुई।

हमले में घायल जवान शेर मोहम्मद ने बताया कि करीब 300 नक्सलियों ने अचानक गोलीबारी शुरू कर दी, जिनमें महिला नक्सली भी शामिल थीं। इसके बाद पुलिस दल ने भी जवाबी कार्रवाई की। नक्सली आधुनिक हथियारों से लैस थे। घायल जवान ने बताया कि सुरक्षा बल ने नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब दिया और उन्होंने दावा किया कि इस मुठभेड़ के दौरान लगभग एक दर्जन नक्सली भी मारे गए हैं।

उपाध्याय ने बताया कि पुलिस दल की कोशिश थी कि घायल जवानों को वहां से जल्द बाहर निकाला जाए जिससे उनकी जान बचाई जा सके। क्षेत्र में अभी भी खोजी अभियान जारी है। राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि घटना की जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री रमन सिंह दिल्ली से रायपुर पहुंच गए हैं तथा वह राज्य के उच्च अधिकारियों की बैठक लेंगे तथा स्थिति की समीक्षा करेंगे। गौरतलब है कि इसी वर्ष 11 मार्च को नक्सलियों ने सुकमा जिले में ही घात लगाकर हमला कर दिया था। इस हमले में सीआरपीएफ के 12 जवान शहीद हो गए थे तथा तीन अन्य घायल हुए थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर शोक जताते हुए कहा, शहीदों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। हम स्थिति की करीबी निगरानी कर रहे हैं। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सुकमा नक्सली हमले में सीआरपीएफ जवानों की मौत पर दुख जताया है। उन्होंने कहा कि गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर छत्तीसगढ़ का दौरा करेंगे।

READ IT

अपनी बातः अब विधायक बनने की तमन्ना नहीं रही!

http://www.asnews.in/?p=8296

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *