आईना समस्तीपुरः कैसे पड़ा चालू महीने का नाम जून?

You must need to login..!

Description

जून माह चल रही है। जून का नाम आते ही आपके जेहन में भीषण गर्मी, लू और पसीने का ही खयाल आता होगा लेकिन क्या आपको पता है कि जून का नाम जून क्यों पड़ा ।
ज्योतिष संवत का जून मास को प्रायः ज्येष्ठ {जेठ } माह के नाम से जाना जाता है । ज्येष्ठा नक्षत्र के आधार पर इस माह की रचना हुई है । ज्येष्ठा -नक्षत्र के देवता इंद्र हैं और देवताओं के राजा इंद्र समस्त यौवन सम्पदा अर्थात भोग -विलास में इस माह में रम जाते हैं और सबसे बड़ी बात कि किसी भी कार्य में प्रकृति के सहयोग के बिना कोई सांसारिक कार्य हो नहीं सकते -अतः यह मधुमास प्रकृति के तरुण अवश्था को भरपूर सहायता करता है ।

अंग्रेजी माह जून का नाम जूपीटर की पत्नी जूनों के नाम पर रखा गया । जूनों अपरमित सुन्दर और सुकोमल थी । इनके रथ के वाहक घोडें नहीं बल्कि मयूर थे । प्राचीन रोमन धर्म में भी उल्लेख है कि देवराज जुपिटर की पत्नी और प्रमुख देवियों में से एक थीं। वो देवताओं की रानी और स्त्रियों और विवाहों की देवी थीं। उनके समतुल्य प्राचीन यूनानी धर्म की देवी थीं हीरा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *